परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व

Date:

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (1))img

चार दिनों तक चलने वाला त्योहार

छठ पूजा पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में सूर्य और छठ माता की उपासना संबंधी चार दिनों तक चलने वाला महापर्व है।

पर्व का लक्ष्य

यह निःसंतानों को संतान देने और संतानों की रक्षा और उनकी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए मनाया जाता है। परिवार की तरक्की व खुशहाली इस पर्व का लक्ष्य है।

वर्ष में दो बार

यह वर्ष में दो बार मनाया जाता है। चैत्र मास में और कार्तिक मास में। दीपावली के बाद भैया दूज के बाद प्रारंभ हो जाता है, कार्तिक शुक्ल पक्ष की चतुर्थी से सप्तमी की सुबह तक मनाया जाता है।

विदेश में भी त्यौहार छठ महापर्व की धूम

पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार के लोग देशभर में जहां कहीं भी गए वहां उन्होंने इस पर्व को प्रचलित कर दिया प्रवासी भारतीयों में भी यह बहुत लोकप्रिय हो गया है और वे लोग इसको उत्साह व उल्लास पूर्वक मनाते हैं। यह मॉरीशस, गुयाना, फिजी, त्रिनिदाद, सूरीनाम, जमैका में भी धूमधाम से मनाया जाता है।

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (2))img

सूर्य की बहन

छठी माता को सूर्य देवता की बहन और ब्रह्मा जी की मानस पुत्रीमाना जाता है। छठी माता सूर्य के पूजन करने से खुश होकर हमारी मनोकामनाएं  पूर्ण करती हैं।

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (3))img

 मां दुर्गा का रूप कात्यायनी

छठी माता को कात्यायनी के रूप में भी जाना जाता है जिनकी पूजा नवरात्र के छठवें दिन की जाती है । इस प्रकार छठी माता मां दुर्गा के अनेक रूपों में से एक हैं।

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (4))img

वैदिक संस्कृति की झलक

छठ मनाने की अनेक पौराणिक कथाएं प्रचलित है लेकिन इतना तय है कि छठ महापर्व वैदिक काल से ही चला आ रहा है। इसमें वैदिक आर्य संस्कृति की स्पष्ट झलक दिखती है। ऋग्वेद में भी सूर्य, उषा, प्रकृति आदि के पूजन का खूब उल्लेख मिलता है।

अदिति व आदित्य

ऐसी मान्यता है कि देवासुर संग्राम में जब देवता कमजोर पड़ने लगे, तब देवताओं की माता अदिति ने सूर्य मंदिर में जाकर छठी मैया की आराधना की। तब छठी मैया की कृपा से उन्हें तेजस्वी पुत्र आदित्य की प्राप्त हुयी, जिसने देवताओं को असुरों पर विजय दिलाई।

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (5))img

अंग देश के राजा कर्ण

सूर्य पूजा का महाभारत में बहुत उल्लेख मिलता है। उस समय आज के बिहार के भागलपुर, जमालपुर, मुंगेर आदि अंग देश कहलाते थे जिनमें सूर्य के प्रबल उपासक कर्ण का शासन था। कर्ण को सूर्य पुत्र भी कहा जाता है।  ऐसा माना जाता है कि छठ पूजा की शुरुआत महाभारत काल में कर्ण के द्वारा हो गई थी।

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (6))img

सीता, द्रौपदी, राजा प्रियव्रत

माता सीता द्वारा छठ पूजा, द्रौपदी द्वारा पारिवारिक सुख हेतु छठी मैया की पूजा व और राजा प्रियव्रत की कथा का भी उल्लेख पौराणिक साहित्य में मिलता  है।

चार दिन चलने वाला त्यौहार छठ महापर्व

छठ पूजा चार दिन तक चलने वाला त्योहार है।पहला दिन नहाए खाए, दूसरा दिन खरना, तीसरा दिन सायं अर्ग चौथा दिन उषा अर्ग।

ये भी पढ़े: क्यों अनूठा है छठ महापर्व

छठ पूजा का पहला दिन: नहाए खाए कहलाता है

साफ सफाई कमरा अलग

पहले दिन नहाए खाए में घर की अच्छी तरह से साफ सफाई की जाती है और एक कमरा छठी मैया के सामग्री हेतु अलग कर दिया जाता है।

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (10))img

सूर्य व छठी मैया की पूजा

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (11))img

सूर्य भगवान और छठी मैया की पूजा की जाती है । मन,कर्म, वचन की शुद्धता के साथ व्रत संपन्न करने की के लिए आशीर्वाद मांगा जाता है।

वस्त्र व भोजन

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (12))img

छठ व्रत में सफेद या काले वस्त्र धारण नहीं किए जाते। पहले दिन सेंधा नमक के साथ बनी कद्दू या लौकी की सब्जी, चने की दाल व अरवा चावल को बनाकर प्रसाद के रूप में ग्रहण किया जाता है।

छठ पूजा का दूसरा दिन: खरना

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (14))img परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (15))img

निर्जल उपवास

व्रती पूरे दिन निर्जल उपवास रखता है और शाम को एक ही समय भोजन ग्रहण करता है। इस भोजन को ही खरना कहा जाता है।

खरना

खरना एक विशेष प्रकार से पकाया गया प्रसाद है। चावल को गन्ने के रस में पकाया जाता है। इसे रसियाव भी कहते हैं। चावल का पीठा एवं घी चुपड़ी रोटी बनाई जाती है। इसे ही खरना कहते हैं ।

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (16))img

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (17))img

36 घंटे का उपवास

शाम को पूजा करने के बाद पहले व्रती प्रसाद के रूप में इसे ग्रहण करता है। इसके बाद 36 घंटे का निर्जल व्रत रखा जाता है।

ये भी पढ़े: भारत में शतरंज के टेलेंट का विस्फोट

प्रसाद वितरण

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (18))img

फिर परिवार के अन्य सदस्य भी इसे भोजन के रूप में ग्रहण करते हैं । फिर समाज के अन्य लोगों में भी इसे बांटा जाता है। नमक और चीनी का उपयोग इसे बनाने में नहीं किया जाता।

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (19))img

छठ पूजा का तीसरा दिन: सायं अर्ध्य

प्रसाद तैयार

तीसरे दिन पूरी साफ सफाई के साथ प्रसाद तैयार किया जाता है। गुड़ व गेहूं के आटे से बना ठेकुआ, गुड़ चावल के आटे से बना कसार, अनेक तरह के फल व सब्जियां, चीनी से बने खिलौने आदि को मिट्टी के बर्तनों में तैयार कर बांस के बर्तनों में रखा जाता है।

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (20))img

दउरा या सूप

व्रती व्यक्ति इसे दऊरा अर्थात एक प्रकार की गहरी डलिया या बांस के सूप में रखता है। इस प्रकार के सूप या डलिया कम से कम 2 तैयार किए जाते हैं अधिक से अधिक अपनी सामर्थ्य व श्रद्धा अनुसार 5,7 या 9 कुछ भी तैयार किए जा सकते हैं।हर इच्छा के लिए अलग अलग सूप तैयार करने की परंपरा है। इन सूपों को एक बड़ी डलिया मेंरखकर पीले कपड़े से बांधकर सिर पर रखकर जलराशि तक ले जाते हैं।

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (21))img

नहाय

व्रती सूरज डूबने से कम से कम एक घंटा पहले नदी या सरोवर में उतरता है और डुबकी लगाकर नहाने के पश्चात कमर तक जल में खड़ा होकर सूर्य भगवान की पूजा करता है। हाथ जोड़कर ॐ सूर्याः नमः जाप करते हुए अपनी गलतियों की क्षमा मांगता है और अपने परिवार की खुशहाली काआशीर्वाद मांगता है।

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (25))img

सायं अर्ग

पूरे परिवार का एक-एक सदस्य टोकरी को व्रती को चढ़ाने के लिए देते हैं। वह सदस्य टोकरी पर जल डाल  कर अर्ग देता है। फिर रात्रि में घर आकर छठ मैया के गीत गाए जाते हैं और भोर के लिए सूप से पुरानी सामग्री हटाकर नया प्रसाद डालकर तैयार कर लिया जाता है।

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (22))img

छठ पूजा का अंतिम चौथा दिन: ऊषा अर्ध्य

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (27))img

ऊषा अर्ध्य  और मनोकामना

सूरज उगने से 1 घंटे पहले व्रती नदी या सरोवर के पास पहुंच जाते हैं ।व्रती डुबकी लगाकर नहाकर सूरज भगवान की पूजा करते हैं, फिर एक एक टोकरी सूरज भगवान को अर्पित की जाती है।

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (30))img

परिवार के प्रत्येक सदस्य दूध मिले हुए जल से उगते हुए सूर्य भगवान को अर्घ्य देता है। इसी समय सूरज देवता और छठ मैया से अपनी मनोकामना रखी जाती है।

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (31))img

गांव जाकर पीपल के नीचे हवन से पूजा पूर्ण    

इसके बाद अपने गांव जाकर पीपल के पेड़ के नीचे जिसे ब्रह्म बाबा कहा जाता है ,उपले या कंडे पर हवन करके पूजा का समापन होता है। व्रती कच्चे दूध का शरबत पीकर व प्रसाद ग्रहण कर इस चार दिन की तपस्या को पूरा करते हैं।

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व Sanjay Blogger Chhath Pooja (32))img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related articles

भारतीय समाज में उपहार देने की परंपरा

भारतीय समाज में उपहार देने की परंपराउपहार देने की परंपरा सदियों से भारतीय समाज में उपहार देने की परंपरा...

क्यों अनूठा है छठ महापर्व

क्यों अनूठा है छठ महापर्व ?वैदिक काल से लोकप्रिय *             छठ महापर्व वैदिक काल से ही चला रहा है।...

धन के पीछे अंतहीन बेतहाशा दौड़ से कैसे बचें ?

धन के पीछे अंतहीन बेतहाशा दौड़ से कैसे बचें ?नीड व डिजायर में अंतर हमें नीड और डिजायर में...

धन कमाना एक कला है और उसे भोगना उससे भी बड़ी कला

धन कमाना एक कला है और उसे भोगना उससे भी बड़ी कलाधन के बिना जीवन संभव नहीं ? *            ...