ऐ काल ! तुझसे होड़ है मेरी

Date:

ऐ काल ! तुझसे होड़ है मेरी (भाग एक)

काल तुझसे होड़ है मेरी भाग एक)img

बहुत कम धन के व्यापार प्रारंभ

सिविल सर्विसेज परीक्षाओं में असफल रहने के बाद मैं इलाहाबाद से लखनऊ आ गया। पैरेन्ट्स की कृपा से रहने व खाने की समस्या नहीं थी। कुछ महीनों तक अनेक समाचार पत्रों में स्वतंत्र लेखन किया। मेरे अनेक आलेख (पूरे पेज व आधे पेज वाले) दैनिक हिंदुस्तान में प्रकाशित हुए। किंतु पत्रकारिता जगत का माहौल रूचिकर न लगने के कारण 1996 में अपनी मां से मात्र 17000 रूपए लेकर व्यापार प्रारम्भ किया। जिसे मैंने उनको तीसरे महीने ही लौटा दिया।

फैक्ट्री की स्थापना

व्यापार में सफलता मिलने के बाद 2004 में हमने चिनहट इंडस्ट्रियल एरिया लखनऊ, उत्तर प्रदेश (टेल्को के पास) एक फैक्ट्री सहयोगी इंटरप्राइज प्राइवेट लिमिटेड स्थापित की।
जन्नत नाम से नर्सरी उत्तर प्रदेश (टेल्को के पास) एक फैक्ट्री सहयोगी इंटरप्राइज प्राइवेट लिमिटेड स्थापित की।

जन्नत नाम से नर्सरी

Nursery Scenic Beauty)img

फैक्ट्री से जब कुछ और अधिक व्यावसायिक स्थिरता आई, तब लगा कि अब कुछ समाज के लिए किया जाए। प्लांट्स, पर्यावरण, प्रकृति आदि की ओर शुरू से रूझान था। इसीलिए 2014 में खरगापुर, गोमती नगर विस्तार में जन्नत नाम से एक नर्सरी शुरू की। इसमें हम अधिकांश पौधे 10 रूपए या इससे कम में देते हैं।

बायो ऑर्गेनिक नेचुरल क्या है? किक द केमिकल्स 

जब हमने देखा कि जैविक के नाम पर रासायनिक प्लांट फूड धड़ल्ले से बिक रहा है जो स्वास्थ्य,मिट्टी और पर्यावरण पर प्रतिकूल प्रभाव डाल रहा है। तब हमने जैविक बागवानी पर बल देने के लिए जैविक व शुद्ध प्लांट फूड भी उपलब्ध कराया। हम बॉन प्रोडक्ट्स के ब्रांड से 100% Pure, bio, organic, natural, vegan, chemical free, pollution free प्लांट फूड्स का निर्माण कर रहे हैं।

Bonproducts.in के नाम से हमारी वेबसाइट है। प्रदूषण और रसायन  मिट्टी, पर्यावरण और जीवों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल रहे हैं।रसायन मुक्त और प्रदूषण मुक्त कार्यों व उत्पादों के प्रमोशन के लिए हमने एक यूट्यूब चैनल बनाया है जिसमें 35 से अधिक वीडियो बना चुके हैं।हमारी वेबसाइट और यूट्यूब चैनल पर आपको सारी जानकारी मिल जायेगी।

हमारा मोटो है ‘ Give Back to Mother Earth with Us‘ और हमारी टैग लाइन है ‘Kick the Chemicals’. जन्नत नर्सरी में हमने आमजन को बढ़ते प्रदूषण से सचेत करने के लिए प्रदूषणरोधी पौधों (Air Purifier Plants)सम्‍बन्‍धी गैलरी की स्थापना की। वहां आपको एक छत के नीचे 50 से भी अधिक प्रदूषणरोधी पौधे देखने को मिल सकते हैं साथ में उनसे संबंधित साहित्य भी।

धार्मिक व सांस्कृतिक पौधों की गैलरी

हमने धार्मिक व सांस्कृतिक पौधों (Religious and Cultural plants) की गैलरी भी बनाई। आपको लगभग सारे इस तरह के लोकप्रिय पौधे कम मूल्य पर मिल जायेंगें ।

पुस्‍तकों का लेखन

आम लोगों को बढ़ते प्रदूषण और बिगड़ते पर्यावरण के बारे मे जागरुक करने के लिए हमने दो पुस्तकें लिखी Gardening Guide और Air Purifier Plants.

NBP YouTube Channel)img

विद्यार्थी जीवन में प्रकाशन और असफलता का कारण

मैंने विद्यार्थी जीवन में चार किताबें लिखी थी जिनके अनेक संस्करण निकले थे। एक त्रैमासिक पत्रिका ‘‘प्रतियोगी’’ भी निकाली थी। जिसके दो अंक आये थे और जिसकी गुणवत्ता की चतुर्दिक प्रशंसा हुई थी। अति उत्साह में एक बड़ी गलती हुई, पॉकेट मनी से चल रहे व्यवसाय में पूरे देश में प्रतियोगी मैगजीन की प्रतियां भेज दीं। हमें यह नहीं पता था कि किसी भी मैगजीन के 6 अंक आने के बाद ही उसका भुगतान भेजे जाने की परंपरा है।

एक मैगजीन विक्रेता ने बताया कि अनेक कारणों से 90% मैगजीन दो चार अंक निकालकर ही दम तोड़ देती हैं इसीलिए हम लोग जब पत्रिका के 6 अंक आ जाते हैं तब पहले अंक का पैसा देना प्रारंभ करते हैं। अब हमारा सारा पैसा, चार किताबों के अनेक संस्करण का भी मैगजीन देश के कोने कोने में भेजे जाने में लग गया था,जो मिलने वाला नहीं था।

हमारे पास ज्ञान, श्रम, जज़्बा सब कुछ था, पर धन नहीं बचा था। किंतु धनाभाव के कारण हम उसके और अंक नहीं निकाल सके। लखनऊ आकर मैंने अपनी इसी हॉबी को व्यवसाय बनाना चाहा, किंतु अनुकूल माहौल न पाकर व्यापार की ओर मुड़ गया, फिर भी मेरा यह शौक सदा जिंदा रहा और आज भी है। इसी कारण मैं लिखता रहा, पर्यावरण, उद्यान, पशुपालन, कृषि, प्रदूषण, शिक्षा आदि विषयों पर। पशुपालन व उद्यान पर अधिक लिखा क्योंकि मुझे लगता है कि इन दोनों में छोटी आय वाले लोग अधिक हैं और इनसे कम पूंजी लगाकर अच्छी आय अर्जित की जा सकती है।

Author and Publication)img

क्या है पी पी पी

थोड़ा आर्थिक स्थायित्व आने के बाद मेरा यह पुराना शौक एक बार फिर जाग उठा। अब हमने अपने लेखन कार्यों के प्रकाशन के लिए एक संस्था People’s Participation Publication की स्थापना की है। हमारा मोटो Nation Building Products है और हमारी टैग लाइन –

देश हमें देता है सब कुछ, हम भी तो कुछ देना सीखें।
अंधकार को क्यों धिक्कारे, अच्छा हो एक दिया जलाएं।।

सामान्यतया पब्लिकेशन को केवल किताबों से संबंधित मान लिया जाता है, किंतु हमारा नारा है।

More than just books

पुस्तकों के अतिरिक्त अनेक जागरूकता उत्पादों का निर्माण

Synthetic wall Art, Wall Frame, Dangler Charts)img
किताबों के अतिरिक्त हम सिंथेटिक चार्ट, वॉल फ्रेम, बैनर, डेंगलर चार्ट, क्विक फिक्स डिस्प्ले आदि का भी प्रकाशन कर रहें हैं। हमारे प्रोडक्ट्स राष्ट्र निर्माण को सशक्त करेंगे। हम उत्पाद प्रेरित न बनकर उपभोक्ता प्रेरित बनना चाहते हैं। हम क्षणिक, खोखले शब्दों और वायदों से नहीं, अपने ठोस कार्य से आपको प्रभावित करना चाहते हैं।
BON Youtube Channel)img

नेशन बिल्डिंग प्रॉडक्ट्स एवं बॉन प्रोडक्ट्स नाम के दो यूट्यूब चैनलका संचालन

राष्ट्र की शक्तियों और कमजोरियों पर नज़र रखकर उसकी विवेचना के लिए हम नेशन बिल्डिंग प्रॉडक्ट्स एवं बॉन प्रॉडक्ट्स के नाम से दो यूट्यूब चैनल चला रहे हैं जिसमें 170 से भी अधिक वीडियो बना चुके हैं।

क्या है लिटरेचर बैंक ?

हमने पशुपालन, उद्यान, कृषि, खाद्य प्रसंस्करण, पर्यावरण, प्रदूषण, मिड डे मील, शिक्षा आदि पर हजारों सचित्र साहित्य वाला एक विशाल Literature Bank तैयार किया। गत पच्चीस से भी अधिक वर्षों से निरंतर अनथक श्रम से तैयार हुआ। इसके अधिकांश आर्टिकल्स को विषय के विशेषज्ञों ने जांचा परखा है। जिसे हम धीरे धीरे अपनी वेबसाइट पर डालेंगे ताकि यह सर्व सुलभ हो जाए।

National Building products Youtube Channel)img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related articles

भारतीय समाज में उपहार देने की परंपरा

भारतीय समाज में उपहार देने की परंपराउपहार देने की परंपरा सदियों से भारतीय समाज में उपहार देने की परंपरा...

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्व

परंपराओं और आस्थाओं का त्यौहार छठ महापर्वचार दिनों तक चलने वाला त्योहार छठ पूजा पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार और...

क्यों अनूठा है छठ महापर्व

क्यों अनूठा है छठ महापर्व ?वैदिक काल से लोकप्रिय *             छठ महापर्व वैदिक काल से ही चला रहा है।...

धन के पीछे अंतहीन बेतहाशा दौड़ से कैसे बचें ?

धन के पीछे अंतहीन बेतहाशा दौड़ से कैसे बचें ?नीड व डिजायर में अंतर हमें नीड और डिजायर में...